सौरव गांगुली का जीवन परिचय | सौरव गांगुली क्रिकेट करियर | Sourav Ganguly Biography in Hindi

दोस्तों आज में आपको बताने जा रहा हु सौरव गांगुली का जीवन परिचय और सौरव गांगुली क्रिकेट करियर के बारे और उनके करियर से जुडी सभी तरह की जानकारी आज हम आपको देंगे क्रिकेट के दादा कहे जाने वाले सौरव गांगुली के जन्म 8 July 1972 कलकत्ता मे हुआ था उनके पिता का नाम श्री चंडीदास था।

सौरव गांगुली जीवनी

सौरव गांगुली का का जन्म 8 July 1972 कलकत्ता में हुआ, और ये ये चंडीदास और निरूपा गांगुली के छोटे पुत्र हैं श्री चंडीदास छपाई का व्यवसाय करते थे और काफी रईस थे भारत में ऐसे कई खिलाडी हैं जिनको उनके विशिष्ट खेल प्रतिभा और कई उपलब्धियों के कारण अभी भी याद किया जाता हैं उनमे से एक सौरव गांगुली का नाम भी शामिल हैं। सौरव गांगुली को सफल कप्तानों में से एक मन जाता हैं वह बाएं हाथ के काफी अच्छे बल्लेबाज हैं उन्होंने क्रिकेट के हर फॉर्मेट मैं शानदार प्रदर्शन किया हैं उनको दादा , प्रिंस ऑफ़ कोलकाता, बंगाल टाइगर आदि के नाम से भी जानते हैं गांगुली का पूरा नाम सौरव चंडीदास गांगुली है सौरव गांगुली ने बंगाल में फुटबॉल खेल में रुचि लेना शुरू क्र दिया था लेकिन बाद मैं अपने बड़े भाई की सलाह पर क्रिकेट की और रुख करा और कुछ समय बाद भारतीय क्रिकेट के चमकते सितारे बने।

सौरव गांगुली क्रिकेट करियर

सौरव गांगुली स्कूल के दिनों से ही काफी अच्छा क्रिकेट खेलते थे उन्होंने बंगाल की अंडर 15 टीम की ओर से शतक भी लगया था और बहरहाल, घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट जैसे, रणजी ट्राफी, दीलीप ट्राफी आदि में अच्छा प्रदर्शन को देखते हुए सौरव गांगुली को वर्ष 1992 में वेस्टइंडीज दौरे के लिए भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल कर लिया गया था। और 11 जनवरी 1992 को उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ अपना पहला अन्तराष्ट्रीय एकदिवसीय मैच खेला उनको एक भी मैच मैच खेलने का मौका मिला था और सौरव गांगुली ने 3 ही रन बनाये थे. फिर बाद मे उनकी काफी ज्यादा आलोचना होने लगी इस दौरे के 4 साल बाद सौरव गांगुली को कोई मौका नहीं मिला।

फिर 1996 मे सौरव गांगुली को इंग्लैंड के दौरे के लिए सेलेट कर लिया गया उनको वहां पर भी एक ही वन डे मैच खेलने को मिला 46 रन बनाए , 20 जून 1996 को सौरव गांगुली ने इंग्लैंड लॉर्ड्स के मैदान पर अपना टेस्ट मैच की शुरुआत की और सौरव ने 131 रनों की शानदार पारी खेली। इस दौरे मे उन्होंने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया लगातार दो मैचों मे 2 दो सेंचुरी लगाने वाले दुनिया के तीसरे बल्लेबाज बन गए फिर उनका भारतीय टीम मे स्थान पक्का हो गया

ऑन साइड स्ट्रोक न खेल लगाने के करण उनको स्ट मैचों के योग्य ही समझा जाने लगा था जल्द ही सौरव गांगुली ने लोगो को बता दिया ऐसा कुछ नहीं हैं और वर्ष 1997 में कनाडा में सहारा कप में पाकिस्तान के खिलाफ 75 रन बनाये और 16 रन देकर 5 विकेट भी ली और इस टूर्नामेंट में उनको मैन ऑफ़ दी मैच और सीरीज भी मिला और सर्वाधिक रन बनाने के लिए सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज घोषित किया गया था.

और वर्ष 1999 क्रिकेट वर्ल्ड कप में सौरव गांगुली को सचिन तेंदुलकर साथ ओपनिंग करवाते थे और फिर गांगुली ने श्रीलंका के विरुद्ध खेलते हुए 183 रन की शानदार पारी खेली और कपिलदेव का रिकॉर्ड भी तोडा फिर सौरव गांगुली ने सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ के साथ काफी ज्यादा रन की पार्टनरशिप की थी।

वर्ष 2007 के समय उनका कैरियर थोड़ा भारी पड़ने लगता और उनका प्रदर्शन भी ख़राब होने लगा और भारतीय टीम के कोच ग्रेग चैपल के साथ मनमुटाव के कारण उनको टीम से बाहर भी जाना पड़ा पर सौरव गांगुली ने हार नहीं मानी और टीम से बाहर होने के बाद वे आईपीएल मैं कोलकाता की टीम केकेआर से खेलने लगे , फिर यहां भी उनका कुछ ज्यादा अच्छा हुआ पुणे वारियर की टीम को ज्वाइन करना पड़ा। वैसे तो उनका क्रिकेट कैरियर काफी ज्यादा शानदार रहा और उन्होंने कई रिकॉर्ड बनाये फिर वर्ष 2004 मैं सौरव गांगुली को पद्म श्री अवार्ड से सम्मानित किया।

सौरव गांगुली के रिकॉर्ड और उपलब्धियां

  • सौरव गांगुली ने सचिन तेंदुलकर के साथ 136 पारियों में 6609 रन बनाये
  • सर्वाधिक रनों की साझेदारी सौरव गांगुली-सचिन तेंदुलकर 176 पारियों में 8227 रन की थी
  • सौरव गांगुली ने की सर्वाधिक साझेदारी 318 रन राहुल द्रविड़ के साथ 1999 विश्वकप में.
  • सौरव गांगुली का औसत कभी 40 से कम नही था
  • सौरव गांगुली 2000 में भारत के कप्तान बने थे
  • जब सौरव गांगुली ने सन्यास लिया तब टीम इंडिया दुसरे नंबर पर थी
  • वर्ष 2013 मैं अमीर क्रिकेटर की सूची में छठे पायदान पर थे सौरव गांगुली
  • सौरव गांगुली के दस हजार रन 100 विकेट और 100 कैच थे
  • सौरव गांगुली ने सबसे तेज नो हजार रन पूरे किया थे
  • सौरव गांगुली 10 हजार रन बनाने वाले दूसरे प्लेयर बने पहले सचिन थे

सौरव गांगुली को मिले अवार्ड और सम्मान

अर्जुन पुरस्कार

स्पोर्ट्स पर्सन ऑफ़ दी ईयर

पद्म श्री पुरस्कार

बंगा विभूषण पुरस्कार

1998

1998

2004

2013

सौरव गांगुली बायो

वास्तविक नाम

उप-नाम

पेशा

कद

आँखों का रंग

जन्म तारीख

उम्र(2021 में)

जन्म स्थान

राष्ट्रीयता

गृह नगर

स्कूल

जाति

जर्सी नंबर

सौरव चंडीदास गांगुली

दादा, बंगाल टाइगर,

पूर्व क्रिकेटर

5.11 फीट

काला

8 जुलाई 1972

49 साल

बेहाला, कलकत्ता, पश्चिम बंगाल

भारतीय

कोलकाता, पश्चिम बंगाल

St. Xavier’s Collegiate School. Kolkata, West Bengal

कान्यकुब्ज ब्राम्हण

99, 1, 24, 21

सौरव गांगुली के करियर की जानकारी

टेस्ट डेब्यू – बनाम इंग्लैंड लॉर्ड्स में, 20 जून 1996

अंतिम टेस्ट – विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में बनाम ऑस्ट्रेलिया, 06 नवंबर, 2008

वनडे डेब्यू – बनाम वेस्ट इंडीज, द गाबा में, 11 जनवरी 1992

लास्ट वनडे – कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम में पाकिस्तान था, १५ नवंबर २००७

आईपीएल डेब्यू – बनाम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में, 18 अप्रैल, 2008

लास्ट आईपीएल – महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में बनाम कोलकाता नाइट राइडर्स, 19 मई, 2012

सौरव गांगुली बल्लेबाजी करियर

M INNINGS Runs HS 100 50
Test 113 188 7212 239 16 35
ODI 311 300 11363 183 22 72
IPL 59 56 1349 91 0 7

सौरव गांगुली बॉलिंग करियर

M INNINGS Runs WKTS BBI BBM
Test 113 99 1681 32 3/28 3/37
ODI 311 171 3849 100 5/16 5/16
IPL 59 20 363 10 2/21 2/21

FAQ

Q: सौरव गांगुली की बेटी का नाम क्या है?

सना गांगुली

Q: सौरव गांगुली की आत्मकथा का नाम क्या है?

ए सेंचुरी इज़ नॉट

Q: सौरव गांगुली के कितने शतक हैं?

311 वनडे मैचों में 41.02 की औसत से 11363 रन और 22 शतक.

Q: सौरव गांगुली का जन्म कब हुआ

8 जुलाई 1972 (आयु 48 वर्ष)

Q: 2021 में बीसीसीआई के अध्यक्ष कौन है?

सौरव गांगुली

Q: सौरव गांगुली का पूरा नाम क्या है?

Sourav Chandidas Ganguly

Q: सौरव गांगुली का डेब्यू मैच?

11 January 1992 vs West Indies

Q: सौरव गांगुली की पत्नी का नाम?

 डोना गांगुली

निष्कर्ष

दोस्तों आज मैंने आपको सौरव गांगुली का जीवन परिचय और उनके क्रिकेट करियर के बारे मैं बताया हैं हमें उम्मीद हैं आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा अगर पसंद आया तो आप दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं ज्यादा जानकारी के लिए आप हमने कमैंट्स करे हम आपके लिए इसी तरह के आर्टिकल लाते रहेंगे

Leave a Comment